AI News World India

Search
Close this search box.

रणनीतिक सहयोग और नीतिगत जानकारी के साथ भारत के महत्वपूर्ण खनिजों से संबंधित शिखर सम्मेलन समाप्त

महत्वपूर्ण खनिज शिखर सम्मेलन: लाभकारी और प्रसंस्करण क्षमताओं को बढ़ाना’ विषय पर नई दिल्ली में आयोजित सम्मेलन रणनीतिक सहयोग और नीतिगत जानकारी को आगे बढ़ाने पर ध्यान देने को लेकर आज संपन्न हो गया, जो भारत के महत्वपूर्ण खनिज उद्देश्यों की दिशा में महत्वपूर्ण प्रगति को दर्शाता है। शिखर सम्मेलन का आयोजन खान मंत्रालय ने शक्ति सस्टेनेबल एनर्जी फाउंडेशन (शक्ति), ऊर्जा, पर्यावरण और जल परिषद (सीईईडब्ल्यू), और भारतीय निरन्तर विकास संस्थान (आईआईएसडी) के सहयोग से किया गया था।

शिखर सम्मेलन के दूसरे और अंतिम दिन, नीतिगत प्रोत्साहनों और भारत में निवेश के लाभों पर हितधारकों के बीच एक जबरदस्त बातचीत हुई। इन्वेस्ट इंडिया ने महत्‍वपूर्ण खनिज प्रसंस्करण – भारत में अवसर, देश में उपलब्ध राजकोषीय और गैर-राजकोषीय प्रोत्साहनों पर प्रकाश डालते हुए प्रस्तुत किया। ओडिशा और आंध्र प्रदेश जैसे अग्रणी खनन राज्यों ने उद्योग के लिए इन राज्यों द्वारा प्रदान किए गए प्रोत्साहनों को साझा किया, जो देश के विकास पथ और सक्षम बुनियादी ढांचे को बढ़ावा देने के लिए राज्य-स्तरीय कार्यक्रमों पर जोर देता है।

खनिज संग्रह, शोधन और अंतिम उपयोग, विशेषकर निम्न-कार्बन प्रौद्योगिकियों में तालमेल को बढ़ावा देने के लिए क्लस्टर-आधारित दृष्टिकोण पर जोर दिया गया। चर्चा ने निवेशकों को आकर्षित करने के लिए नियामक निश्चितता, वित्तपोषण ढांचे और ईएसजी मानकों के महत्व पर जोर दिया। पैनलिस्टों ने इन्वेस्ट इंडिया और इंडस्ट्रियल प्रमोशन एंड इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन ऑफ ओडिशा (आईपीआईसीओएल) जैसे संगठनों द्वारा दी जाने वाली सुविधा सेवाओं पर प्रकाश डाला, जो भारत में प्रसंस्करण और लाभकारी क्षमताओं की स्थापना की सुविधा प्रदान करते हैं।

खान मंत्रालय की संयुक्त सचिव डॉ. वीणा कुमारी डर्मल ने शिखर सम्मेलन की मुख्य बातों और भविष्य की दिशाओं के बारे में बताते हुए समापन भाषण दिया। उन्होंने महत्वपूर्ण खनिज आपूर्ति श्रृंखला को सुरक्षित करने, भारत में कौशल विकास को बढ़ाने और महत्वपूर्ण खनिजों के पुनर्चक्रण पर ध्यान केंद्रित करने के लिए घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय दोनों प्रयासों पर जोर दिया। डॉ. डर्मल ने इन खनिजों के लिए भारत की उपलब्ध प्रसंस्करण प्रौद्योगिकियों पर प्रकाश डाला और अपतटीय खनन नियमों में संशोधन का जिक्र किया।

ainewsworld
Author: ainewsworld

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज