AI News World India

Search
Close this search box.

तापमान बढ़ने के साथ ही, केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और एनडीएमए ने गर्मियों में अस्पतालों में आग की घटनाएं रोकने के उपायों पर राज्यों को संयुक्त सलाह जारी की

गर्मी के महीनों के दौरान तापमान बढ़ने के साथ ही, अस्पताल में आग लगना एक बड़ा खतरा बन जाता है। इसे रोकने के लिए, केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) ने सभी राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों को एक संयुक्त सलाह जारी की है, जिसमें ऐसी विनाशकारी घटनाओं को रोकने के लिए सक्रिय उपायों के सर्वोपरि महत्व को रेखांकित किया गया है।

राज्य स्वास्थ्य विभागों और राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरणों को यह सुनिश्चित करने के लिए मिलकर काम करने का निर्देश दिया गया है ताकि उनके अधिकार क्षेत्र में आने वाले सभी मान्यता प्राप्त अस्पताल निम्नलिखित पर तत्काल कार्रवाई करें:

  • संपूर्ण निरीक्षण: अग्नि सुरक्षा अनुपालन का आकलन करने के लिए सभी अस्पतालों का व्यापक अग्नि सुरक्षा ऑडिट/ऑन-साइट निरीक्षण करें। सुनिश्चित करें कि फायर अलार्म, फायर स्मोक डिटेक्टर, फायर एक्सटिंगुइशर, फायर हाइड्रेंट और फायर लिफ्ट सहित अग्निशमन प्रणालियां मौजूद हैं और पूरी तरह कार्य कर रही हैं।
  • विद्युत भार ऑडिट: अपर्याप्त विद्युत भार क्षमता के महत्वपूर्ण मुद्दे का समाधान करें। अस्पतालों को नियमित रूप से विद्युत भार ऑडिट करना चाहिए, खासकर नए उपकरण जोड़ते समय या खाली जगहों को आईसीयू में परिवर्तित करते समय। किसी भी पहचानी गई विसंगतियों को तुरंत ठीक किया जाना चाहिए।
  • फायर एनओसी अनुपालन: अस्पतालों को नियामक आवश्यकताओं का सख्ती से पालन करना होगा और अपने संबंधित राज्य अग्निशमन विभागों से वैध फायर अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) प्राप्त करना होगा। अग्नि सुरक्षा मानदंडों को अपनाने से पहले निर्मित पुरानी इमारतों में विद्युत भार के पुन: अंशांकन को प्राथमिकता दें।

सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को अग्नि सुरक्षा अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए अस्पतालों द्वारा उठाए जाने वाले कदमों और उपायों की रूपरेखा देने वाले निर्देशों का एक विस्तृत सेट भी प्रदान किया गया है, जिसमें उन्हें सभी मान्यता प्राप्त अस्पतालों के बीच सूचना का प्रसार करने की सिफारिश की गई है।

अस्पतालों और अन्य स्वास्थ्य देखरेख केन्द्रों में आग की घटनाओं को रोकने के लिए निम्नलिखित निर्देश दिए जाने चाहिए:

  1. कार्यात्मक अग्निशमन प्रणालियाँ: अस्पतालों को अग्निशामक यंत्र, हाइड्रेंट और अलार्म जैसे अग्निशमन उपकरणों का नियमित रूप से निरीक्षण करना चाहिए। इसमें अग्निशामकों की समाप्ति तिथियों की जांच करना, यह सुनिश्चित करना शामिल है कि हाइड्रेंट पहुंच योग्य हैं और उनमें पर्याप्त पानी का दबाव है, और अग्नि अलार्म पूरे स्थान पर चालू और सुनाई देने योग्य हैं।
  2. नियमित रखरखाव और परीक्षण: सभी सुरक्षा उपकरणों के लिए एक रखरखाव कार्यक्रम बनाएं। इसमें अग्निशामक यंत्रों की मासिक जांच, अग्नि अलार्म और हाइड्रेंट के त्रैमासिक परीक्षण और उपयुक्त भारतीय मानकों के अनुसार उनकी प्रभावशीलता को प्रमाणित करने के लिए वार्षिक पेशेवर निरीक्षण शामिल होना चाहिए।
  3. नियमित विद्युत भार ऑडिट: अस्पताल की बिजली खपत का मूल्यांकन करने के लिए, विशेष रूप से आईसीयू जैसे उच्च-मांग वाले क्षेत्रों में, वर्ष में दो बार विद्युत ऑडिट करें। अपग्रेड या संशोधनों का मूल्यांकन प्रमाणित इलेक्ट्रीशियन द्वारा किया जाना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे भारत की राष्ट्रीय विद्युत संहिता-2023 के अनुसार सिस्टम पर ओवरलोडिंग किए बिना सुरक्षा मानक पूरे करते हैं।
  4. ऑक्सीजन सुरक्षा: ऑक्सीजन टैंक या पाइप्ड ऑक्सीजन वाले क्षेत्रों में, धूम्रपान निषेध की सख्त नीतियां लागू करें और ताप स्रोतों पर नियंत्रण रखें। साइनेज पर इन क्षेत्रों को स्पष्ट रूप से चिह्नित किया जाना चाहिए, और कर्मचारियों को उच्च ऑक्सीजन वाले वातावरण से जुड़े जोखिमों पर प्रशिक्षित किया जाना चाहिए।
  5. स्मोक डिटेक्टर और फायर अलार्म लगाना: सुनिश्चित करें कि सभी अस्पताल क्षेत्रों में, विशेष रूप से रोगी कक्ष, हॉलवे और सामान्य क्षेत्रों में फायर स्मोक डिटेक्टर और फायर अलार्म लगाए जाएं। IS2189 के अनुसार इन प्रणालियों का मासिक परीक्षण करें और बैटरियों को सालाना या आवश्यकतानुसार बदलें।
  6. दहनशील सामग्री नियंत्रण: अस्पताल के निर्माण और साज-सज्जा में उपयोग की जाने वाली सामग्री की जांच करें। विशेष रूप से रोगी के देखभाल वाले क्षेत्रों में दहनशील सामग्रियों की पहचान कर उन्हें गैर-दहनशील सामग्री से बदलें या आग प्रतिरोधी विकल्पों को अपनाएं।
  7. विद्युत नलिकाओं के लिए गैर-दहनशील सामग्री : यह सुनिश्चित करने के लिए विद्युत नलिकाओं का निरीक्षण करें कि उन्हें इंट्यूसेंट फायरस्टॉप सीलेंट जैसी सामग्रियों से सील किया गया है जो खुले स्थानों के माध्यम से आग और धुएं को फैलने से रोकते हैं।
  8. बिजली स्रोतों को ओवरलोड करने से बचें: विद्युत भार की निगरानी करने और ओवरलोडिंग को रोकने के लिए बिजली प्रबंधन प्रणालियों का उपयोग करें। सुनिश्चित करें कि कई उच्च-शक्ति उपकरण एक ही सर्किट से जुड़े नहीं हैं। नए उपकरणों को सुरक्षित रूप से समायोजित करने के लिए बिजली वितरण की नियमित समीक्षा करें।
  9. पानी का छिड़काव करने वाले उपकरण और होज़पाइप लगाना : आईसीयू और ऑपरेशन थिएटर सहित महत्वपूर्ण क्षेत्रों को स्वचालित स्प्रिंकलर सिस्टम और सुलभ होज़पाइप के साथ फिट करें। आग लगने की स्थिति में सक्रिय होने के लिए इन प्रणालियों को फायर अलार्म सिस्टम के साथ जोड़ा जाना चाहिए।
  10. राष्ट्रीय भवन संहिता का कड़ाई से पालन: राष्ट्रीय भवन संहिता 2016 में उल्लिखित नवीनतम अग्नि सुरक्षा मानकों का अनुपालन करने के लिए अस्पताल के बुनियादी ढांचे की नियमित समीक्षा और अद्यतन करें। इसमें हवा आने-जाने की उचित प्रणाली, आग प्रतिरोधी दरवाजे और गलियारों में आपातकालीन प्रकाश व्यवस्था और सीढि़यां सुनिश्चित करना शामिल है।
  11. अग्नि सुरक्षा एनओसी प्राप्त करना: स्थानीय अग्निशमन विभाग से राज्य अग्नि सुरक्षा नियमों के अनुसार अग्नि सुरक्षा अनापत्ति प्रमाणपत्र को वार्षिक रूप से नवीनीकृत करें। इसमें अद्यतन अग्नि सुरक्षा योजनाएं और उपकरण रखरखाव और कर्मचारियों के प्रशिक्षण के रिकॉर्ड जमा करना शामिल है।
  1. कर्मचारी प्रशिक्षण और अभ्यास: आग की रोकथाम, आपातकालीन प्रक्रियाओं और अग्निशमन उपकरणों के उपयोग पर सभी कर्मचारियों के लिए एक निरंतर प्रशिक्षण कार्यक्रम लागू करें। यह सुनिश्चित करने के लिए कि कर्मचारियों, डॉक्टरों और मरीजों को आपातकालीन स्थिति में प्रतिक्रिया करने का तरीका पता हो, निकासी अभ्यास सहित द्वि-वार्षिक अग्नि अभ्यास आयोजित करें।
  2. निकासी योजनाएँ: व्यापक निकासी योजनाएँ विकसित करें जिनमें स्पष्ट, अच्छी तरह से चिह्नित भागने के मार्ग, बाधाओं से मुक्त आपातकालीन निकास और निर्दिष्ट सुरक्षित विधानसभा क्षेत्र शामिल हों। योजनाओं को पूरे अस्पताल और स्टाफ प्रशिक्षण कार्यक्रमों में प्रमुखता से प्रदर्शित किया जाना चाहिए। प्रत्येक अस्पताल को आग लगने की घटना की स्थिति में पालन करने के लिए एक एसओपी तैयार करनी होगी।

राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों से इन महत्वपूर्ण सुरक्षा उपायों के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए अनुवर्ती समीक्षा करने का भी आग्रह किया गया है।

ainewsworld
Author: ainewsworld

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज