AI News World India

Search
Close this search box.

कोयला मंत्रालय ने बीसीसीएल की दुग्दा कोल वाशरी के मुद्रीकरण की प्रक्रिया शुरू की

भारत के कोयला क्षेत्र की क्षमता को अधिकतम करने की दिशा में उठाए गए एक रणनीतिक कदम में, कोयला मंत्रालय ने भारत कोकिंग कोल लिमिटेड (बीसीसीएल) से संबंधित दुग्दा कोल वाशरी की दो एमटीपीए क्षमता के लिए 12 मार्च, 2024 को मुद्रीकरण प्रक्रिया शुरू करने की घोषणा की है। यह ऐतिहासिक पहल कोयला भंडारों के कुशल उपयोग के माध्यम से संसाधनों के अनुकूलन और आर्थिक विकास को प्रोत्साहन देने के बारे में सरकार की प्रतिबद्धता को रेखांकित करती है।

बीसीसीएल की दो एमटीपीए दुग्दा कोल वाशरी का मुद्रीकरण एक पारदर्शी और प्रतिस्पर्धी नीलामी प्रक्रिया के माध्यम से किया जाएगा और इसे संभावित इस्पात निर्माता को प्रदान किया जाएगा। पुरानी और गैर-परिचालन वाशरी को कोयले की मात्रा के लिए भुगतान किए गए उच्चतम प्रीमियम के अनुरूप कोयला लिंकेज के साथ बोली लगाने वाले को प्रदान किया जाएगा। निर्माण/नवीनीकरण, संचालन, रखरखाव और स्थानांतरण मॉडल पर वॉशरी के डिजाइन, निर्माण/नवीनीकरण, संचालन और रखरखाव और हस्तांतरण के लिए सफल बोलीदाता को हस्तांतरित किया जाएगा।

कोकिंग कोयला, इस्पात उत्पादन में एक महत्वपूर्ण घटक है। यह औद्योगिक परिदृश्य, खासकर भारत जैसी तेजी से विकसित हो रही अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। उच्च गुणवत्ता वाले कोकिंग कोयले की मांग लगातार बढ़ने के साथ-साथ इसके निष्कर्षण और प्रसंस्करण को बढ़ाने के उद्देश्य से की गई पहल के महत्व को कम करके नहीं आंका जा सकता है। बीसीसीएल की दुग्दा कोल वाशरी का मुद्रीकरण कोकिंग कोल क्षेत्र में क्रांति लाने के लिए तैयार है, जो देश की इस्पात उत्पादन क्षमता में काफी योगदान देगा।

ainewsworld
Author: ainewsworld

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज