AI News World India

Search
Close this search box.

श्री धर्मेन्द्र प्रधान ने स्कूल एवं अध्यापक शिक्षा में विभिन्न पहलों की शुरुआत की.. पढ़िए नई शिक्षा नीति के अंतर्गत क्या-क्या बदलाव किए जा रहे हैं

केंद्रीय शिक्षा एवं कौशल विकास तथा उद्यमिता मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान ने आज नई दिल्ली के कौशल भवन में शिक्षा मंत्रालय के स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग (डीओएसईएल) द्वारा विकसित स्कूल एवं अध्यापक शिक्षा में विभिन्न पहलों की शुरुआत की। इस कार्यक्रम में डीओएसईएल के सचिव श्री संजय कुमार, डीओएसईएल के अतिरिक्‍त सचिव श्री आनंद राव पाटिल, डीओएसईएल के संस्थान एवं प्रशिक्षण की संयुक्त सचिव सुश्री प्राची पांडेय, एनसीटीई की सदस्य सचिव सुश्री केसांग यांगजोम शेरपा, राष्ट्रीय शैक्षणिक प्रौद्योगिकी फोरम एनबीए एनएएसी के अध्यक्ष प्रो. अनिल सहस्त्रबुद्धे, एनईटीएफ के अध्यक्ष प्रो. चामु कृष्णा शास्‍त्री, एनसीईआरटी के निदेशक दिनेश प्रसाद सकलानी सीआईआईएल, मैसूर के निदेशक डॉ. शैलेन्द्र मोहन, शिक्षा मंत्रालय, एनसीटीई, एनसीईआरटी के वरिष्ठ अधिकारी तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे। श्री प्रधान ने राष्ट्रीय संरक्षण मिशन (एनएमएम) तथा शिक्षकों के लिए राष्ट्रीय प्रोफेशनल मानक (एनपीएसटी), भारतीय भाषाओं में 52 प्राइमर, एनएमएम एवं एनपीएसटी पर मुद्रित पुस्तकों, एससीईआरटी/डीआईईटी के वीडियो के साथ विभिन्न स्कीमों/दिशानिर्देशों, राष्ट्रीय विद्या समीक्षा केंद्र (वीएसके) के वीडियो और 200 टीवी चैनलों को भी लॉन्‍च किया।

श्री प्रधान ने कार्यक्रम में अपने संबोधन के दौरान, इस दिन को 2047 तक विकसित भारत बनने की दिशा में एक कदम आगे बढ़ाने के लिए एक ऐतिहासिक दिन घोषित किया। उन्होंने कहा कि जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण के उत्कृष्ट संस्थान (डीआईईटी), अध्यापकों के लिए राष्ट्रीय प्रोफेशनल मानक, राष्ट्रीय संरक्षण मिशन, एनसीईआरटी के 52 प्राइमर, राष्ट्रीय विद्या समीक्षा केंद्र और 200 टीवी चैनलों को लांच किए जाने से जमीनी स्तर पर एनईपी का प्रभावी कार्यान्वयन होगा, अध्यापकों एवं शिक्षार्थियों को सशक्त बनाया जाएगा तथा गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को और अधिक समावेशी, नवोन्मेषी एवं न्यायसंगत बनाया जाएगा।

यह संदेश दोहराते हुए कि भाषा शक्ति है और मातृभाषा में सीखना परिवर्तनकारी है, श्री प्रधान ने कहा कि भारतीय भाषाओं में 52 प्राइमरों ने एक नई सभ्यता के पुनर्जागरण की शुरुआत का मार्ग प्रशस्त किया है। उन्होंने कहा, ये पहल एक निर्बाध और भविष्यवादी शिक्षण परिदृश्य तैयार करेगी, भारतीय भाषाओं में सीखने को बढ़ावा देगी, एनईपी 2020 के विजन को साकार करेगी और स्कूली शिक्षा में समग्र रूप से बदलाव लाएगी।

श्री संजय कुमार ने अपने संबोधन में 2030 तक माध्यमिक स्तर में जीईआर को 100 प्रतिशत तक ले जाने के लिए एनईपी2020 की अनुशंसाओं पर प्रकाश डाला और बताया कि विभाग इसे पूरा करने के लिए कैसे प्रतिबद्ध है। उन्होंने कक्षा 3-12 के लिए नई पाठ्यपुस्तकों के बारे में भी जानकारी दी, जिनमें से कुछ पहले ही विकसित हो चुकी हैं और शेष भी जल्द ही लाई जाएंगी। श्री संजय कुमार ने श्री प्रधान के सुझावों के बाद विकसित किए गए 52 प्राइमरों के महत्व पर भी जोर दिया।

एनएमएम

एनईपी 2020 ने शिक्षा प्रणाली को बदलने के लिए रूपरेखा तैयार की है और नेशनल मिशन फॉर मेंटरिंग (एनएमएम) का उद्देश्य हमारे समर्पित अध्यापकों को मूल्यवान समर्थन और मार्गदर्शन प्रदान करना, उनके पेशेवर विकास को सुनिश्चित करना और हमारे छात्रों के लिए एक मजबूत शैक्षिक नींव बनाने के लिए उन्हें सशक्त बनाना है। यह मिशन एक समर्पित डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से चलेगा। अध्यापकों को मेंटर के रूप में अनुभवी पेशेवरों से गुणवत्तापूर्ण परामर्श सत्रों तक पहुंच प्राप्त होगी, जो अलग-अलग क्षमताओं वाले शिक्षार्थियों की विविध आवश्यकताओं को पूरा करेंगे।

एनएमएम पर ब्लूबुक को इन – हाउस परामर्श, 15 ओपन हाउस चर्चाओं, पायलट से प्राप्त इनपुट, अन्य हितधारकों की चर्चाओं और आउटरीच कार्यक्रमों के परिणामस्वरूप प्राप्त फीडबैक/सुझावों को शामिल करने के बाद अंतिम रूप दिया गया था। एनएमएम पर ब्लूबुक का देश भर में व्यापक प्रसार के लिए 22 अनुसूचित भाषाओं, ब्रेल और ऑडियोबुक में अनुवाद किया जाएगा।

एनपीएसटी

अध्यापकों के लिए राष्ट्रीय व्यावसायिक मानक (एनपीएसटी), जैसा कि एनईपी 2020 में परिकल्पना की गई है, अध्यापकों को उनके प्रदर्शन के संदर्भ में क्या अपेक्षित है और इसे बढ़ाने के लिए क्या करने की आवश्यकता है, इसकी समझ प्रदान करके उनके व्यक्तिगत और व्यावसायिक विकास में वही सुधार लाने पर ध्यान केंद्रित किया गया है। एनपीएसटी मार्गदर्शक दस्तावेज़ यह सुनिश्चित करता है कि स्कूली शिक्षा के विभिन्न स्तरों/चरणों पर सभी छात्रों को भावुक, प्रेरित, उच्च योग्य, पेशेवर रूप से प्रशिक्षित और अच्छी तरह से सुसज्जित अध्यापकों द्वारा पढ़ाया जाता है। यह गुणवत्ता का विवरण है और विभिन्न चरणों/स्तरों पर शिक्षकों की दक्षताओं को परिभाषित करता है। इसके कार्यान्वयन के लिए केंद्र, राज्यों, केंद्रशासित प्रदेशों, एचईआई, नियामक एजेंसियों/नियामक निकायों और अन्य सभी संबंधित हितधारकों के सामूहिक प्रयासों की आवश्यकता है। एनपीएसटी मार्गदर्शक दस्तावेज को पूरे देश में व्यापक प्रसार के लिए 22 अनुसूचित भाषाओं, ब्रेल और ऑडियोबुक में अनुवादित किया जाएगा।

भारतीय भाषाओं में 52 प्राइमर

भारतीय भाषाओं में 52 प्राइमर युवा शिक्षार्थियों के लिए, विशेष रूप से प्रारंभिक बचपन देखभाल और शिक्षा (ईसीसीई) के लिए एक परिवर्तनकारी कदम होने जा रहा है, जो उन्हें उनकी मातृभाषा/स्थानीय भाषा में शिक्षा तक पहुंच प्रदान करेगा। यह युवा दिमागों के लिए एक प्रेरणादायक यात्रा शुरू करेगा, जो गहरी समझ, आजीवन सीखने, स्वदेशी संस्कृति में अधिक परिचितता और जड़ता और शिक्षाविदों और उससे आगे की बड़ी सफलता का मार्ग प्रशस्त करेगा।

पीएमईविद्या: स्कूली शिक्षा के लिए पीएमईविद्या डीटीएच टीवी चैनलों के तहत 200 डीटीएच टीवी चैनलों का लॉन्च पीएमईविद्या पहल का एक अभिन्न अंग है, जिसका उद्देश्य शिक्षा तक मल्टी-मोड पहुंच को सक्षम करने के लिए डिजिटल/ऑनलाइन/ऑन-एयर शिक्षा से संबंधित सभी प्रयासों को एकीकृत करना है। मल्टी-मोड लचीले और साथ ही शिक्षा तक सुसंगत पहुंच को सक्षम करने के लिए, पीएमईविद्या डीटीएच टीवी चैनल टीवी और रेडियो के अलावा विभिन्न प्लेटफार्मों पर भी उपलब्ध कराए जाते हैं, जिससे गुणवत्तापूर्ण ई- कंटेंट के डिजाइन, विकास और प्रसार की सुविधा निशुल्क मिलती है।

राष्ट्रीय विद्या समीक्षा केंद्र

एनसीईआरटी ने अनुसंधान और विकास और क्षमता निर्माण कार्यक्रम की सुविधा के लिए राष्ट्रीय विद्या समीक्षा केंद्र को कार्यात्मक बनाया है। अब, राष्ट्रीय विद्या समीक्षा केंद्र को उनके राज्य समकक्षों के साथ एकीकृत कर दिया गया है। इसने वर्तमान में 11 कार्यक्रमों – स्कूल प्रमुखों और शिक्षकों की समग्र उन्नति के लिए राष्ट्रीय पहल (निष्ठा), दीक्षा, ऊर्जावान पाठ्यपुस्तकें (ईटीबी), मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता के लिए निपुण भारत पहल, एनसीईआरटी प्रश्नोत्तरी, राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण, प्रदर्शन ग्रेडिंग सूचकांक (पीजीआई), एकीकृत जिला सूचना प्रणाली एजुकेशन प्लस, पीएम पोषण, राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रूपरेखा (एनसीएफ), सूक्ष्म-सुधार कार्यक्रम (सर्वोत्तम शिक्षाशास्त्र प्रथाओं की मान्यता) और प्रशस्त (स्कूलों के लिए एक विकलांगता स्क्रीनिंग चेकलिस्ट) और पीएम एसएचआरआई – में दृश्यता, अंतर्दृष्टि और क्रियाशीलता को सक्षम किया है।

जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण के उत्कृष्ट संस्थान (डीआईईटी)

सभी 613 जिला शिक्षा और प्रशिक्षण संस्थानों (डीआईईटी) के भौतिक उन्नयन के लिए राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों को अगले पांच साल में चरणबद्ध तरीके से देश में उत्कृष्टता के डाइट के रूप में विकसित करने के लिए कुल 9000 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। विभिन्न बुनियादी सुविधाओं में सुधार के लिए समग्र शिक्षा की केंद्र प्रायोजित योजना के तहत प्रति डीआईईटी 15 करोड़ रुपये प्रदान किए जाएंगे। श्री धर्मेन्द्र प्रधान ने घोषणा की कि भविष्य में, सभी एससीईआरटी को भी इसी तरह से अपग्रेड किया जाएगा।

ainewsworld
Author: ainewsworld

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज