AI News World India

Search
Close this search box.

ऊर्जा दक्षता ब्यूरो के 22वें स्थापना दिवस समारोह में ऊर्जा उपयोग में परिवर्तन की दिशा में ई-परिवहन की भूमिका और कार्बन उत्सर्जन कम करने में भारतीय कार्बन बाजार की क्षमता पर विचार-विमर्श किया गया

भारत सरकार के विद्युत मंत्रालय के अंतर्गत ऊर्जा दक्षता ब्यूरो ने राष्ट्र की सेवा के 22 वर्ष पूरे होने पर 1 मार्च, 2024 को नई दिल्ली में आयोजित मुख्य कार्यक्रम में सरकार और उद्योग के हितधारकों को आमंत्रित किया। 22वें स्थापना दिवस का विषय “भारत में विद्युतीकरण और कार्बन उत्सर्जन में कमी के माध्यम से ऊर्जा उपयोग में परिवर्तन” था। इसमें केंद्रीय ऊर्जा और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री श्री आर.के. सिंह ने ऊर्जा दक्षता ब्यूरो (बीईई) की उसके अभिनव और वैश्विक-अग्रणी कार्यक्रमों के लिए प्रशंसा की। मंत्री महोदय ने देश में कार्बन उत्सर्जन को कम करने में ऊर्जा दक्षता ब्यूरो की भूमिका के लिए उसकी प्रशंसा करते हुए कहा कि यह मुख्य रूप से ऊर्जा दक्षता ब्यूरो के कारण है कि भारत देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की उत्सर्जन तीव्रता को कम करने के अपने एनडीसी लक्ष्य को 11 साल पहले ही हासिल कर सकता है।।

केंद्रीय मंत्री महोदय ने इस अवसर पर ऊर्जा दक्षता ब्यूरो के दो मानक और लेबलिंग कार्यक्रम शुरू किए, एक पैकेज्ड बॉयलर के लिए और दूसरा वाणिज्यिक पेय कूलर के लिए, जिसे विसी कूलर (या पेय कूलर) भी कहा जाता है। उन्होंने इंडिया ईवी डाइजेस्ट का आरंभिक संस्करण और राज्य ऊर्जा दक्षता सूचकांक का पांचवां संस्करण भी जारी किया। समारोह में सड़कों पर इलेक्ट्रिक वाहनों को प्रोत्साहन देने और घरों में ऊर्जा दक्ष माध्यम से खाना पकाने के उद्देश्य में योगदान देने के लिए इलेक्ट्रिक परिवहन और इलेक्ट्रिक कुकिंग पर एक प्रदर्शनी भी लगाई गई। अधिक विवरण यहां मिल सकता है।

22वें स्थापना दिवस समारोह ने भारतीय अर्थव्यवस्था की ऊर्जा तीव्रता को कम करने के ऊर्जा दक्षता ब्यूरो के मिशन के लिए सामयिक महत्व के दो मुद्दों पर विचार-विमर्श करने का अवसर प्रदान किया।

ainewsworld
Author: ainewsworld

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज