AI News World India

Search
Close this search box.

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस प्रदर्शनी भाषाओं के वैश्विक सामंजस्य को प्रदर्शित करती है

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (आईजीएनसीए) की कलानिधि डिवीजन और अकादमिक इकाई ने ‘अक्षर | शब्द | भाषा’ की पेशकश की, जो भारत की भाषाई विविधता का जश्न मनाने और सम्मान करने वाली एक प्रदर्शनी है। साथ ही, यह हमारी सांस्कृतिक विरासत को परिभाषित करने वाली भाषाओं, लिपियों और शब्दों की समृद्धि की खोज करती है।

दो मुख्य दीर्घाओं दर्शनम I और II और गलियारों में एक जीवंत संवादात्मक दीवार में फैली यह प्रदर्शनी मातृभाषाओं की भावना और महत्व और समाज के क्रमिक विकास में उनकी सूक्ष्म भूमिका को जीवंत करती है।

दर्शनम II गैलरी में भारत की 22 अनुसूचित भाषाओं में 22 उद्धरणों का संग्रह है, जिसे प्रत्येक भाषा के बारे में कुछ विशेष लाने के लिए तैयार किया गया है और कॉरिडोर के स्थान के साथ दर्शनमI दर्शकों के लिए एक गहन और संवादात्मक अनुभव है। यह प्रदर्शनी 29 फरवरी 2024 तक चलेगी।

‘अक्षर | शब्द | भाषा’प्रदर्शनी का उद्देश्य मातृ भाषाओं के महत्व को सामने लाना और लुप्तप्राय भाषाओं को संरक्षित करना है। इसे डिवीजन के अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस समारोहों के एक भाग के रूप में कलानिधि डिवीजन, आईजीएनसीए के लिए अकादमिक इकाई, आईजीएनसीए द्वारा आयोजित किया गया है।

भाषाई और सांस्कृतिक विविधता के बारे में जागरूकता बढ़ाने और बहुभाषावाद को बढ़ावा देने के लिए 17 नवंबर 1999 को हुई घोषणा के बाद से 21 फरवरी को यूनेस्को के अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के रूप में मनाया जाता है।

प्रदर्शनी का उद्घाटन संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार की संयुक्त सचिव सुश्री लिली पाण्डेय, सदस्य सचिव, आईजीएनसीएडॉ. सच्चिदानंद जोशी, वरिष्ठ लिंग विशेषज्ञ, यूनेस्को क्षेत्रीय कार्यालय, नई दिल्लीडॉ. हुमा मसूद, निदेशक (प्रशासन), आईजीएनसीएसुश्री प्रियंका मिश्रा, डीन (प्रशासन)प्रोफेसर रमेश गौड़ ने किया।

ainewsworld
Author: ainewsworld

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज