AI News World India

Search
Close this search box.

कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपीईडीए) ने कृषि निर्यात को वित्त वर्ष 1987-88 में 0.6 बिलियन अमेरिकी डॉलर के मामूली निर्यात से बढ़ाकर वित्त वर्ष 2022-23 में 26.7 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक पहुंचाया है

वर्ष 1987-88 में 0.6 बिलियन अमेरिकी डॉलर के वार्षिक निर्यात की मामूली शुरुआत से, कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपीईडीए) के सक्रिय सहयोग द्वारा वित्तीय वर्ष 2022-23 में कृषि निर्यात में 26.7 बिलियन अमेरिकी डॉलर की उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। इस वृद्धि की यात्रा को 200 से अधिक देशों में निर्यात के विस्तार द्वारा रेखांकित किया गया है, यह 12 प्रतिशत की सराहनीय चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर (सीएजीआर) को दर्शाता है।

वर्ष 2022-23 की अवधि में भारत का कृषि निर्यात 53.1 बिलियन अमरीकी डॉलर तक पहुचं गया, भारत के इस कृषि निर्यात में एपीईडीए का महत्‍वपूर्ण योगदान 51 प्रतिशत रहा। अप्रैल-दिसंबर, 2023 की अवधि में एपीईडीए के निर्यात समूह में 23 प्रमुख वस्तुओं में से 18 ने सकारात्मक वृद्धि का प्रदर्शन किया। विशेष रूप से 15 बड़े प्रमुख वस्‍तुओं में से 13, जिनका निर्यात पिछले वर्ष 100 मिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक था, इन्‍होंने 12 प्रतिशत की औसत वृद्धि दर के साथ सकारात्मक वृद्धि की। ताजे फलों ने 29 प्रतिशत की उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज करते हुए उत्कृष्टता प्राप्‍त की। इसके अलावा, इस अवधि में प्रसंस्कृत सब्जियों के निर्यात में 24 प्रतिशत की वृद्धि हुई, इसके बाद विविध प्रसंस्कृत वस्तुओं, बासमती चावल और ताजी सब्जियों के निर्यात में भी पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में पर्याप्त वृद्धि हुई। मुख्‍यतया ताजे फलों के निर्यात में भारत ने उल्लेखनीय रूप से वृद्धि की है, यह पिछले वर्ष के 102 गंतव्य देशों की तुलना में आज 111 देशों को अपनी सेवाएं दे रहा है।

एपीईडीए ने 13.02.2024 को अपने 38वें स्थापना दिवस के अवसर पर, कृषि निर्यात के क्षेत्र में महत्‍वपूर्ण अद्वितीय वृद्धि और प्रगति का उत्‍सव मनाया। कृषि उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने के उद्देश्‍य के साथ वर्ष 1986 में स्थापित, एपीईडीए भारत के कृषि निर्यात को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने में एक महत्वपूर्ण शक्ति के रूप में उभर कर आया है।

अप्रैल-नवंबर 2023 के दौरान, कई प्रमुख वस्तुओं में पिछले वर्ष की तुलना में पर्याप्त वृद्धि देखी गई, जैसे केले: 63 प्रतिशत, दालें (सूखे और छिलके वाले): 110 प्रतिशत, ताजे अंडे: 160 प्रतिशत और केसर और दशहरी आम: क्रमश 120 प्रतिशत और 140 प्रतिशत ।

अप्रैल से दिसंबर 2023 की अवधि के दौरान, बासमती चावल के निर्यात मूल्य में 19 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई जो पिछले वर्ष के 3.33 बिलियन अमेरिकी डॉलर की तुलना में 3.97 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक पहुंच गया। इसके साथ ही, निर्यात की मात्रा में 11 प्रतिशत की उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई, जो समान समय सीमा में 31.98 लाख मीट्रिक टन से बढ़कर 35.43 लाख मीट्रिक टन हो गई। बासमती चावल ने शीर्ष बाजारों तक अपनी पहुंच बना ली है, ईरान, इराक, सऊदी अरब, अमेरिका और संयुक्त अरब अमीरात इन निर्यातों के लिए शीर्ष पांच गंतव्यों के रूप में उभर कर आए हैं। निर्यात का यह दमदार प्रदर्शन बासमती चावल की स्थायी लोकप्रियता और वैश्विक मांग की पुष्टि करता है, जिससे भारत के निर्यात क्षेत्र में एक प्रमुख कृषि उत्पाद के रूप में इसकी स्थिति और अधिक मजबूत हो गई है।

ainewsworld
Author: ainewsworld

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज