AI News World India

Search
Close this search box.

विकसित भारत विकसित गुजरात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री के संबोधन का मूल पाठ

इंडियन प्राइम मिनिस्टर नरेंद्र मोदी

नमस्ते।

गुजरात के मेरे प्यारे भाइयों और बहनों, केम छो…मजा मा। आज विकसित भारत-विकसित गुजरात एक बहुत बड़ा अभियान शुरू हो रहा है। और जैसा मुझे बताया गया, गुजरात की सभी 182 विधानसभा सीटों पर एक साथ, गुजरात के हर कोने में लाखों लोग टेक्नॉलॉजी के माध्यम से जुड़े हैं। विकसित गुजरात की यात्रा में आप सभी लोग इतने उत्साह से शामिल हुए हैं…मैं आप सभी का बहुत-बहुत अभिनंदन करता हूं।

अभी पिछले महीने ही मुझे वाइब्रेंट गुजरात समिट में आने का अवसर मिला था। वाइब्रेंट गुजरात के 20 साल पूरे हो चुके हैं। इस बार का आयोजन भी आप ने बहुत ही शानदार तरीके से किया। ये गुजरात के लिए, देश के लिए भी निवेश के लिहाज़ से बहुत बेहतर कार्यक्रम था। और मैं सोच रहा था कि मैं जब मुख्यमंत्री था तो ऐसे कार्यक्रम की योजना नहीं कर पाया था, जैसे आप लोगों ने इस बार की हैं, और इसलिए मुझसे भी ज्यादा अच्छा काम किया तो मेरा आनंद और अधिक बढ़ गया। तो मेरी तरफ से इस आयोजन के लिए, इसकी सफलता के लिए मैं गुजरात के सब लोगों का, गुजरात सरकार के सबका और मुख्यमंत्री जी की पूरी टीम का ह्दय से बहुत-बहुत अभिनंदन करता हूं, बधाई देता हूं।              

साथियों,

किसी भी गरीब के लिए उसका अपना घर, उसके उज्ज्वल भविष्य की गारंटी होता है। लेकिन समय के साथ परिवार बढ़ रहे हैं, इसलिए नए घरों की जरूरत भी बढ़ती जा रही है। हमारी सरकार का प्रयास है कि हर किसी के पास पक्की छत हो, अपना खुद का घर हो, अपने सपनों के लिए एक उत्तम आशियाना हो। इसी सोच के साथ आज गुजरात के सवा लाख से अधिक, कोई कल्पना कर सकता है, पूरे देश में भी कभी इतने आंकड़े का काम नहीं हुआ होगा। आज सवा लाख मकान, उससे भी ज्यादा उस मकान में जैसे की दिवाली आई हो दिवाली। अयोध्या में प्रभु श्री राम को जैसे घर मिला और गांव गांव आप सबको घर मिला। आज जिन परिवार को घर मिला है, उन सब परिवारजनों को मेरी तरफ से बहुत-बहुत बधाई और बहुत-बहुत शुभकामनाएं। जब ऐसे काम होते हैं, तभी देश कहता है- मोदीकीगारंटीयानिगारंटीपूराहोनेकीगारंटी।

भाइयों और बहनों,

आज इस कार्यक्रम में बनासकांठा के लोग बड़ी संख्या में जुड़े हैं। और साथ-साथ मुझे बताया गया 182 विधानसभा क्षेत्रों में, हर विधानसभा क्षेत्र में हजारों लोग इकठ्ठा हुए हैं। मैं गुजरात भाजपा के लोगों को, गुजरात की जनता को, गुजरात की सरकार को इतने बड़े आयोजन के लिए भी बधाई देता हूं। और मैं यहां टीवी पर अलग-अलग स्थान के लोगों को देख रहा हूं, अलग-अलग स्थान के अलग-अलग लोगों के बहुत पुराने चेहरों के मुझे आज यहां दूर से दर्शन करने का मौका मिल रहा है। दूर-दूर, सुदूर के सब इलाके दिखा दिए जा रहे हैं मुझे। कितना बड़ा भव्य कार्यक्रम, मैंने सालों तक संगठन का काम किया है, तो मुझे मालूम है कि एक साथ इतने स्थानों पर लाखों लोगों को एकत्र करना, ये मामूली काम नहीं है। और आप सब इतनी बड़ी तादाद में हमें आशीर्वाद देते हैं, ये हमारी संकल्पशक्ति को और मजबूत करता है। और आपकी संकल्पशक्ति को हम महसूस कर रहे हैं। हमारा बनासकांठा जिला यानि हमारा पूरा उत्तर गुजरात…अपने यहां तो पानी के घडे लेकर दो-दो किलोमीटर जाना पड़ता था। लेकिन हमारे उत्तर गुजरात के किसानो ने Per Drop More Crop, टपक सिंचाई, आधुनिक सिंचाई यानि ऐसे-ऐसे नए initiative लिए, उसके कारण आज खेती के क्षेत्र में भी हमारा मेसाना हो, अम्बाजी हो, पाटन हो, ये सारा इलाका नई ऊंचाई पर पहुंच रहा है। मुझे अंबाजी धाम में हो रहे विकास कार्यों को देखकर बहुत खुशी हुई। आने वाले समय में यहां भक्तों और पर्यटकों की संख्या में भारी बढ़ोतरी होगी। अब देखिए तारंगाहिल उसमें प्रगति हो रही है, अम्बाजी – बहुत तेजी से प्रगति हो रही है, और खास बात जो नई रेल लाइन आ रही है ना उसके कारण आबू रोड तक यानि अहमदाबाद से आबू रोड तक एक नई broad-gauge लाइन मिलेगी, और ये काम तो आपको याद है ना, अंग्रेजों के जमाने में       100 साल पहले इसकी योजना बनी थी। लेकिन 100 साल तक इसको डिब्बे में डाल दिय गया, नहीं किया गया, आज 100 साल के बाद हो रहा है ये काम। इस परियोजना से बड़ी संख्या में रोजगार के नए मौके बनेंगे। इस परियोजना के निर्माण से अजितनाथ जैन टेम्पल तक पहुंचना आसान हो जाएगा। अम्बाजी जी माता के मंदिर तक सुगम रेल कनेक्टिविटी मिलेगी। और अभी तो मैंने अखबार में पढा, मैं जब था वहां था, मुझे भी उतना ज्ञान नहीं था। मेरा गांव वडनगर अभी सब लोगों के खोज करके निकाला है। करीब-करीब 3 हजार साल से जीवंत गांव दुनिया के लोगों के लिए अजूबा है, और कहते है बहुत बड़ी मात्रा में Tourist पहले हाटकेश्वर आते थे, अब ये पुरानी चीजें देखने के लिए आते हैं। इधर अम्बाजी, पाटन, तारंगाजी यानि एक प्रकार से पूरा एक क्षेत्र जैसे Statue of Unity पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बन गया है ना, ये हमारा उत्तर गुजरात भी चाहे नडाबेट जाने के लिए आजकल दौड़ता है। चारों तरफ विकास ही विकास नजर आ रहा है। नॉर्थ-गुजरात को इसके कारण बहुत लाभ होने वाल है, विकास की नई ऊंचाइयों को पार करने वाला है।         

साथियों,

हमने नवंबर-दिसंबर और जनवरी के महीने में पूरे देश में विकसित भारत संकल्प यात्रा का सफल आयोजन देखा है। गांव-गांव मोदी की गारंटी की गाड़ी जाती थी, और गांव में जो कोई लाभार्थी रह गया हो तो उसको ढूंढती थी। और पूरे देश में लाखो गांव में भारत सरकार सीधी उनके पास गई हो, ऐसा आजादी के 75 साल में पहली बार हुआ है। और हमारे गुजरात में भी करोड़ों-करोड़ों लोग इन कार्यक्रमों के साथ जुड़ गए। और सरकार के ऐसे ही प्रयासों से पिछले 10 साल में देश  में जो सबसे बड़ा काम मैं मानूंगा, जिसके लिए आपको भी संतोष होगा, वो काम हुआ है 10 साल में 25 करोड़ लोग गरीबी से बाहर निकले हैं। सरकार इन 25 करोड़ लोगों के साथ हर कदम पर खड़ी रही और इन 25 करोड़ साथियों ने सरकार की योजनाओं का लाभ उठाया, सही तरीके से पैसों का उपयोग किया, योजना के लिए अपने जीवन का बराबर ढ़ाला, और 25 करोड़ लोग गरीबी को परास्त करने में सफल हो गए। यानि मेरे नए 25 करोड़ साथी बन गए, जिन्होंने गरीबी को परास्त किया है। आपको कल्पना आती है कि मुझे कितना आनंद होता होगा, मेरा विश्वास कितना बढ़ गया है कि हां…ये योजनाएं हमें गरीबी से बाहर निकाल सकती हैं। और इसलिए आने वाले दिनों में भी मुझे भारत में गरीबी को खत्म करने के लिए आपकी मदद चाहिए। अगर आप जैसे गरीबी के परास्त किया है, वैसे और भी गरीब, गरीबी को परास्त करें इसके लिए मेरे साथी बनकर आप को उन्हें ताकत देनी होगी। और मुझे विश्वास है कि आप मेरे एक सिपाही बनकर, मेरे साथी बनकर, गरीबी को परास्त करने की लड़ाई में मेरा साथ देंगे। आप को जो ताकत मिली है वो और गरीबों को भी मिले, ये काम आप जरूर करेंगे। अभी जिन बहनों के साथ मुझे संवाद करने का अवसर मिला, उनका जो मैंने आत्मविश्वास देखा, घर मिलने के बाद उनके जीवन में जो एक विश्वास पैदा हुआ है, और घर भी मैं देख रहा था, ऐसे सुंदर घर दिखाई दे रहे थे, मन को लग रहा था कि…वाह…वाकई मेरे गुजरात की तरह मेरे देश के लोग भी सुख-संपन्न जीवन की ओर आगे बढ़ रहे हैं।                      

 साथियों,

आज का समय इतिहास बनाने का समय है, इतिहास रचने का समय है। ये वैसा ही समय है, जैसा हमने आज़ादी के कालखंड में देखा था। आजादी की लड़ाई के दौरान स्वदेशी आंदोलन हो,  भारत छोड़ो आंदोलन हो, दांडी यात्रा हो, जन-जन का संकल्प बन गया था। देश के लिए आज वैसा ही संकल्प विकसित भारत का निर्माण ये बहुत बड़ा सकल्प बन गया है। देश का बच्चा-बच्चा चाहता है कि आने वाले 25 साल में भारत विकसित राष्ट्र बने। इसके लिए हर कोई अपना हर संभव योगदान दे रहा है। और गुजरात की तो हमेशा ये सोच, मैं जब वहां था तब भी गुजरात का यही संकल्प रहा है, राज्य के विकास से देश के विकास की रही है। विकसितभारतकेलिएविकसितगुजरात, ये कार्यक्रम इसी कड़ी का हिस्सा है। 

भाइयों और बहनों,

मुझे खुशी है कि पीएम आवास योजना को लागू करने में गुजरात हमेशा आगे रहा है। इसके तहत शहरी इलाकों में 8 लाख से ज्यादा घर बनाए जा चुके हैं। पीएम आवास योजना ग्रामीण के तहत 5 लाख से ज्यादा घर बनाए गए हैं। नई तकनीक और तेज गति से घर बनाने के लिए हम अपनी आवास योजनाओं में आधुनिक टेक्नॉलॉजी का इस्तेमाल कर रहे हैं। गुजरात के राजकोट में लाइट हाउस प्रोजेक्ट से 1100 से ज्यादा घर बनाए गए हैं।

साथियों,

गरीबों के घर के लिए मोदी ने सरकारी खज़ाना खोल दिया है। और पहले क्या हाल था मुझे याद है, वलसाड की तरफ हमारे हडपती समाज के लिए मकान बने थे। एक भी दिन कोई रहने नहीं गया। हडपती भी रहने ना जाये, बोलो कैसी स्थिति होगी। और धीरे-धीरे वह अपने आप ही बैठ गये। और इसी तरह हम भावनगर जाते है, तो रास्ते में बहुत सारे मकान दिखाई देते हैं। कोई इंसान नजर नहीं आता। धीरे-धीरे उस मकान के खिड़की-दरवाजें सब लोग चोरी कर ले गए। यह सब में 40 साल पहले की बात कर रहा हूं। सब बर्बाद हो गया था। क्योंकि कोई रहेने ही नहीं जाता था, ऐसा सब बनाया था। 2014 से पहले के 10 वर्षों में जितना पैसा गरीबों के घर के लिए दिया जाता था, उसका करीब 10 गुणा पिछले 10 वर्षों में दिया गया। इस वर्ष के बजट में भी हमने 2 करोड़ नए घरों की घोषणा की है। ताकि हर गरीब के पास पक्का घर जरूर हो।

साथियों,

2014 से पहले जिस गति से गरीबों के घर बनते थे, उससे कहीं अधिक गति से आज गरीबों के घर बन रहे हैं। पहले गरीबों के घर के लिए पैसा मिलता ही, बहुत कम मिलता था, और उसे भी बीच में कटकी, कंपनी, बिचौलिए, कोई 15 हजार रूपये मार लेता था, कोई 20 हजार रूपये मार लेता था, लूट लेते थे। अब पैसा भी सवा 2 लाख रुपए से अधिक मिल रहा है और सीधा लाभार्थी के बैंक खाते में पहुंच रहा है। आज गरीब को अपना घर खुद बनाने की आजादी मिली है, इसलिए घर भी तेज़ी से बन रहे हैं, बेहतर बन रहे हैं। पहले छोटे घर होते थे। घर कैसा होगा, ये सरकार के लोग तय करते थे। घर अगर बन भी गया तो टॉयलेट, बिजली-पानी, गैस कनेक्शन ऐसी सुविधाएं गरीब परिवार को कई-कई साल तक नहीं मिलती थी। इस पर भी गरीब के हज़ारों रुपए खर्च हो जाते थे। इसलिए, पहले के अनेक घरों में गृह प्रवेश ही नहीं हो पाया। आज घर के साथ ही ये सारी सुविधाएं मिल जाती हैं। ऐसे में आज हर लाभार्थी खुशी-खुशी अपने पक्के घर में गृह प्रवेश करता है। ये जो घर मिले हैं, इनसे करोड़ों बहनों के नाम पर पहली बार कोई प्रॉपर्टी रजिस्टर हुई है। पहले तो ऐसा होता था कि घर तो आदमी के नाम पर, पति या फिर लड़के के नाम पर, दुकान हो तो भी पुरूष के नाम पर, खेत हो वह भी आदमी के नाम पर, घर में व्हीकल हो तो वह भी आदमी के नाम पर, फिर हमने निर्णय लिया कि यह गरीबों को जो घर देंगे ना, वह घर के वरिष्ठ बहन के नाम पर करेंगे। माता-बहनें अब घर की मालिक बन गई।

भाइयों और बहनों,

गरीब, युवा, हमारे देश का अन्नदाता, हमारा किसान, हमारी मातृशक्ति, हमारी नारी, बहनें ये विकसित भारत के आधार स्तंभ हैं। इसलिए, इनका सशक्तिकरण हमारी प्रतिबद्धता है। और जब मैं गरीब की बात करता हूं तो उसमें हर समाज के परिवार आते हैं। ये घर मिल रहे हैं, तो उस में हर जाति के गरीब परिवार हैं। मुफ्त राशन मिल रहा है, तो हर जाति के लाभार्थी को मिल रहा है। मुफ्त इलाज मिल रहा है, तो हर जाति के गरीब लाभार्थी को मिल रहा है। सस्ती खाद मिल रही है, तो हर जाति के किसान को मिल रही है। पीएम किसान सम्मान निधि, हर जाति के किसान को मिल रही है। गरीब परिवार चाहे किसी भी समाज का हो, उसके बेटे-बेटियों के लिए पहले बैंकों के दरवाज़े बंद थे। उसके पास बैंक को गारंटी देने के लिए कुछ नहीं था। जिसके पास कोई गारंटी नहीं थी, जिसके पास कोई गारंटी नहीं थी, उसकी गारंटी मोदी ने ली है। मुद्रा योजना ऐसी ही गारंटी है। इसके तहत, हर समाज के गरीब युवा बिना गारंटी का ऋण ले रहे हैं और अपना छोटा-मोटा कारोबार कर रहे हैं। हमारे विश्वकर्मा साथी, हमारे रेहड़ी-फुटपाथ वाले साथी, इनकी गारंटी भी मोदी ने ली है। इसलिए आज इनका जीवन भी बदल रहा है। गरीब कल्याण की हर योजना के सबसे बड़े लाभार्थी मेरे दलित भाई-बहन हैं, मेरे ओबीसी भाई-बहनें हैं, बक्शीपंच वाले हैं, हमारे आदिवासी परिवार हैं। मोदी की गारंटी का सबसे अधिक लाभ अगर किसी को हुआ है, तो इन परिवारों को हुआ है।

भाइयों और बहनों,

मोदी ने बहनों को लखपति दीदी बनाने की बहुत बड़ी गारंटी दी है। आप ने सुना होगा कि मोदी साहब यह क्या कर रहे है। मैंने नक्की किया है कि गांव-गांव लखपति दीदी बनानी है। अभी तक देश में 1 करोड़ लखपति दीदी बन चुकी हैं। इसमें बड़ी संख्या में गुजरात की भी मेरी माताएं-बहनें हैं। अब हमारा प्रयास है कि आने वाले कुछ वर्षों में 3 करोड़ बहनों को लखपति दीदी बनाना है। इससे गुजरात की भी हज़ारों बहनों को लाभ होने वाला है। ये जो नई लखपति दीदी बनाने जा रहे हैं ना, इससे गरीब परिवारों को नई ताकत मिलने वाली है। हमारी आशावर्कर, हमारी आंगनबाड़ी की बहने उनके लिए भी इस बजट में बड़ी घोषणा की गई है। अब इन बहनों को अपने इलाज की चिंता नहीं करनी पड़ेगी। उन के और उन के परिवार के इलाज की चिंता – मोदी करेगा। सभी आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को भी अब आयुष्मान योजना के तहत मुफ्त इलाज की सुविधा मिलने वाली है।

साथियों,

बीते वर्षों में हमारा निरंतर प्रयास रहा है कि गरीब और मध्यम वर्ग का खर्च कैसे कम किया जाए। मुफ्त राशन हो, सस्ता इलाज हो, सस्ती दवाएं हों, सस्ता मोबाइल बिल हो, इससे बहुत बचत हो रही है। उज्जवला की लाभार्थी बहनों को गैस सिलेंडर भी बहुत सस्ता दिया जा रहा है। LED बल्ब की जो क्रांति हम लेकर आए हैं, इससे घर-घर में बिजली का बिल कम हुआ है। अब हमारा प्रयास है कि सामान्य परिवारों का बिजली बिल भी ज़ीरो हो और बिजली से कमाई भी हो। इसलिए अब केंद्र सरकार ने एक बहुत बड़ी योजना बनाई है। इसके तहत शुरुआत में 1 करोड़ परिवारों के घरों पर सोलर रूफटॉप लगाया जाएगा। जैसे अपने राधनपुर के पास सोलर का बहुत बड़ा फार्म बनाया है ना, कच्छ में भी है, और अब हर एक के घर के ऊपर, और इसके कारण घर में बिजली फ्री में मिलेगी। इससे करीब 300 यूनिट बिजली फ्री हो, ये व्यवस्था हो जाएगी और हज़ारों रुपए आप के बचेंगे भी और अगर ज्यादा बिजली पैदा करते हैं तो सरकार खरीदेगी और आपको बिजली बेच कर कमाई होगी। गुजरात में तो मोढेरा में हमने सोलर गांव बनाकर देखा है। अब पूरे देश में ऐसी क्रांति आने वाली है। हमारी सरकार अन्नदाता को ऊर्जादाता बनाने पर भी काम रही है। किसानों के लिए सोलर पंप और बंजर ज़मीन पर छोटे-छोटे सोलर प्लांट लगाने के लिए भी सरकार मदद दे रही है। गुजरात में किसानों के लिए भी सौर ऊर्जा के माध्यम से एक अलग फीडर देने का काम चल रहा है। जिससे किसानों को दिन में भी सिंचाई के लिए बिजली की सुविधा मिल जाएगी।

साथियों,

गुजरात की पहचान एक ट्रेडिंग राज्य के तौर पर  है। अपनी विकास यात्रा में गुजरात ने औद्योगिक विकास को नई गति दी है। इंडस्ट्री का पावरहाउस होने की वजह से गुजरात के युवाओ को अभूतपूर्व मौके मिले हैं। आज गुजरात के युवा, हर सेक्टर में गुजरात को नई ऊंचाई पर ले जा रहे हैं। ये सारे अभियान गुजरात के युवाओं को नए अवसर देंगे, उनकी आय बढ़ाएंगे और विकसित गुजरात को नई ऊंचाई पर ले जाएंगे। डबल इंजन की सरकार हर जगह आपके साथ है, हर कदम पर आपके साथ है। बहुत आनंद हुआ आज आप सबको मिल कर, फिर एक बार आज जिन-जिन लोगों को घर मिले हैं, उन सबको उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूं। और आप विश्वास रखिये और आपके बच्चों को बोलना कि मोदी साहब, आप जिस मुसीबत में जिये हैं ना उस मुसिबत में आप के बच्चों को ना जीना पड़े, ऐसा रहने नहीं देना है। आप ने जो तकलीफ सही होगी, आप के बच्चों को वो तकलीफ सहन ना करनी पड़े, ऐसा हमको गुजरात भी बनाना है, और ऐसा देश भी बनाना है।

आप सबको मेरी तरफ से बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

धन्यवाद।

ainewsworld
Author: ainewsworld

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज