AI News World India

Search
Close this search box.

रेलवे स्टेशनों का पुनर्विकास

पिछले तीन वर्षों में तीन रेलवे स्टेशनों अर्थात पश्चिम मध्य रेलवे के रानी कमलापति स्टेशन, पश्चिम रेलवे के गांधीनगर कैपिटल स्टेशन और दक्षिण पश्चिम रेलवे के सर एम. विश्वेश्वरैया टर्मिनल स्टेशन विकसित और चालू किए गए हैं।

इन तीनों रेलवे स्टेशनों के पुनर्विकास से प्राप्त अनुभव के आधार पर रेल मंत्रालय ने भारतीय रेल के स्टेशनों के विकास के लिए ‘अमृत भारत स्टेशन योजना’ की शुरूआत की है। इस योजना के अंतर्गत अब तक विकास/पुनर्विकास के लिए 1318 स्टेशनों की पहचान की गई है।

यह योजना दीर्घकालिक दृष्टिकोण के साथ निरंतर आधार पर स्टेशनों के विकास की परिकल्पना करती है। इसमें स्टेशनों तक पहुंच, सर्कुलेटिंग एरिया, वेटिंग हॉल, शौचालय, आवश्यकतानुसार लिफ्ट/एस्केलेटर, साफ-सफाई, मुफ्त वाई-फाई, स्थानीय उत्पादों के लिए ‘एक स्टेशन एक उत्पाद’ जैसी योजनाओं के माध्‍यम से कियोस्क, बेहतर यात्री सूचना प्रणाली, एक्‍जीक्‍यूटिव लाउंज, व्यावसायिक बैठकों के लिए निर्दिष्‍ट स्थान, लैंडस्केपिंग आदि जैसी सुविधाओं को बेहतर बनाने के लिए प्रत्येक स्टेशन की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए मास्टर प्लान तैयार करना और उनका चरणबद्ध रूप से कार्यान्वयन करना शामिल है।

इस योजना में इमारत में सुधार, शहर के दोनों सिरों के साथ स्टेशन को एकीकृत करना, मल्टीमॉडल एकीकरण, दिव्यांगजनों के लिए सुविधाएं, टिकाऊ और पर्यावरण अनुकूल समाधान, बैलस्‍ट या गिट्टी रहित ट्रैक का प्रावधान, आवश्यकता के अनुसार ‘रूफ प्लाजा’, चरणबद्धता और व्यवहार्यता तथा आगे चलकर स्‍टेशनों पर सिटी सेंटरों के निर्माण की भी परिकल्पना की गई है।

यह जानकारी रेल, संचार और इलेक्ट्रॉन

ainewsworld
Author: ainewsworld

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज