AI News World India

Search
Close this search box.

गणतंत्र दिवस परेड 2024 के दौरान रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन नारी शक्ति और स्वदेशी महत्वपूर्ण प्रणालियों तथा प्रौद्योगिकियों का प्रदर्शन करेगा

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा विकसित कई महत्वपूर्ण प्रणालियों/प्रौद्योगिकियों को 26 जनवरी, 2024 को कर्तव्य पथ पर 75वें गणतंत्र दिवस परेड के दौरान प्रदर्शित किया जाएगा। ‘आत्मनिर्भरता’ के प्रवर्तक के रूप में, डीआरडीओ की महिला वैज्ञानिकों का रक्षा अनुसंधान के प्रमुख क्षेत्रों में बहुमूल्य योगदान रहा है। डीआरडीओ की इस वर्ष की झांकी ‘पृथ्‍वी, वायु, समुद्र, साइबर और अंतरिक्ष जैसे पांचों आयामों में रक्षा कवच प्रदान करके राष्ट्र की सुरक्षा करने में महिला शक्ति’ विषय पर आधारित है।

इस झांकी में रक्षा अनुसंधान एवं विकास में महिलाओं की भागीदारी को प्रमुखता से प्रदर्शित किया जाएगा। प्रसिद्ध वैज्ञानिक श्रीमती सुनीता देवी जेना दस्‍ते की कमांडर होंगी। झांकी में मैन पोर्टेबल एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल(एमपीएटीजीएम), एंटी-सैटेलाइट (एएसएटी) मिसाइल, और अग्नि-5, सतह से सतह पर मार करने वाली बैलिस्टिक मिसाइल, बहुत कम दूरी की वायु रक्षा प्रणाली (वीएसएचओआरएडीएस), नौसेना एंटी-शिपमिसाइल शॉर्ट रेंज (एनएएसएम-एसआर), एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल ‘हेलिना’, क्विक रिएक्शन सरफेस-टू-एयर मिसाइल (क्‍यूआरएसएएम), एस्ट्रा, लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट ‘तेजस’, ‘उत्तम’ एक्टिव इलेक्ट्रॉनिकली स्कैन्ड ऐरे रडार (एईएसएआर), एडवांस्‍ड इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर सिस्टम ‘शक्ति’, साइबर सुरक्षा प्रणालियां, कमांड कंट्रोल सिस्टम और सेमी कंडक्टर फैब्रिकेशन सुविधा का प्रदर्शन किया जाएगा।

मिशन शक्ति में प्रयोग की गई एंटी-सैटेलाइट (एएसएटी) मिसाइल देश की एंटी-सैटेलाइट तकनीक और सटीक स्ट्राइक क्षमता का प्रदर्शन करने वाली एक बड़ी सफलता रही। भारत ऐसी विशिष्ट एवं आधुनिक क्षमता हासिल करने वाला चौथा देश है। अग्नि-5 सतह से सतह पर मार करने वाली बैलिस्टिक मिसाइल है जो उच्च स्तर की सटीकता के साथ लक्ष्य को भेदने में सक्षम है।

स्वदेशी रूप से विकसित एमपीएटीजीएम ‘फायर एंड फॉरगेट’ ‘टॉप अटैक’ और रात्रि परिचालन क्षमता के साथ तीसरी पीढ़ी की एटीजीएम है। इसे थर्मल साइट सेएकीकृत एक मैन पोर्टेबल लॉन्चर से लॉन्च किया जाता है। एनएएसएम-एसआरपहली स्वदेशी एयर लांच की जाने वाली एंटी-शिप मिसाइल प्रणाली है। वीएसएचओआरएडीएस एक मैन पोर्टेबल एयर डिफेंस सिस्टम है जो कम दूरी से कम ऊंचाई वाले हवाई खतरों को विफल करने में सक्षम है। हेलीकॉप्टर से लांच की जाने वाली नाग तीसरी पीढ़ी की, दागो और भूल जाओ एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल है, जो सीधे हिट मोड के साथ-साथ टॉप अटैक मोड में भी लक्ष्य पर हमला कर सकती है। इस प्रणाली में किसी भी मौसम में तथा दिन और रात मार करने की क्षमता है और यह पारंपरिक के साथ-साथ विस्फोटक प्रतिक्रियाशील कवच वाले युद्ध टैंकों पर भी हमला करने में सक्षम है।

ainewsworld
Author: ainewsworld

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज